वायु सेना चंडीगढ़ में मनाएगी अपना 90 वां स्थापना दिवस, देखने को मिलेगा वायु सेना का जोश, जज्बा और जुनून?

वायु सेना का 90 वां स्थापना दिवस आज –

यह दिन हर भारतीय नागरिक के लिए दुनिया की सबसे ताकतवर वायुसेनाओं में शुमार इंडियन एयरफोर्स पर गर्व करने का दिन है। दरअसल 8 अक्टूबर 1932 को वायुसेना की स्थापना की गई थी इसीलिए हर साल 8 अक्टूबर वायुसेना दिवस मनाया जाता है।

वायु सेना अधिकारी सहित राजनाथ भी होंगे शामिल –

भारतीय वायुसेना की 90वीं वर्षगांठ पर वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल विवेक राम चौधरी ने कहा कि आज़ादी के बाद पहली बार एयरफोर्स में कई ऑपरेशनल ब्रांच बनाई जा रही है। आज इंडियन एयरफोर्स अपना 90वां वायुसेना दिवस मना रही है. खास बात यह है कि पहली बार किसी एयरबेस से बाहर चंड़ीगढ़ की सुप्रसिद्ध सुखना लेक के आसमान में वायुसेना की ताकत का नजारा देखने को मिल रहा है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी भारतीय वायुसेना दिवस समारोह में शामिल होंगे।

इस बार वायु सेना चंडीगढ़ में दिखाएगी अपनी ताकत –

हर बार वायु सेना का स्थापना दिवस 8 अक्टूबर को मनाया जाता है और इसी के साथ वायु सेना अपनी ताकत दिखती है भव्य एयर शो और शानदार परेड कला आयोजन होता है लेकिन इस बार कार्यक्रम चंडीगढ़ के सुखना झील परिसर में हो रहा है। यह पहला मौका है जब वायुसेना ने वार्षिक वायुसेना दिवस परेड और फ्लाई पास्ट का आयोजन दिल्ली-एनसीआर से बाहर करने का फैसला किया है।

गीता से लिया गया है आदर्श वाक्य –

भारतीय वायुसेना का आदर्श वाक्य है- ‘नभ: स्पृशं दीप्तम’। यह गीता के 11वें अध्याय से लिया गया है। यह महाभारत के युद्ध के दौरान कुरूक्षेत्र में भगवान श्री कृष्ण द्वारा अर्जुन को दिए गए उपदेश का एक अंश है।

वायुसेना ध्वज –

वायुसेना ध्वज, वायु सेना निशान से अलग, नीले रंग का है जिसके शुरुआती एक चौथाई भाग में राष्ट्रीय ध्वज बना है और बीच के हिस्से में राष्ट्रीय ध्वज के तीनों रंगों अर्थात्‌ केसरिया, श्वेत और हरे रंग से बना एक वृत्त है। यह ध्वज 1951 में अपनाया गया।

यह भी देखें – नेहा भसीन ने ब्लैक एंड व्हाइट बिकिनी में बढ़ाया इंस्टाग्राम का पारा,देखकर लोगो के उड़े होश ?

Leave a Comment