Ayodhya Ram Mandir: अयोध्या में राम मंदिर भूमिपूजन की भव्य तैयारियां आरम्भ, देखिये पूरा कार्यक्रम और प्रस्तावित राम मंदिर की तस्वीरें!

Ayodhya Ram Mandir Bhoomi Pujan Live Updates: अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन (Ram mandir Bhumi Pujan) की भव्य तैयारियां चल रही हैं। सुबह 8 बजे से भगवान श्री राम जी की पूजा अर्चना के साथ हनुमान गढ़ी में पूजा आरंभ हो गई। 5 अगस्त, बुधवार को अयोध्या में भूमि पूजन कार्यक्रम होने वाला है। सदियों बाद पूरे अयोध्या शहर को सजाने में अधिकारी लगे हुए हैं। कई वर्षों तक विवाद का केंद्र रही अयोध्या में अब खुशहाली का दौर आरम्भ हो चुका है। विकास, रोजगार और अच्छी सुविधाओं का इंतजार करते-करते अयोध्यावासियों का सपना अब पूरा होने वाला है।

अयोध्या में राम मंदिर के ‘भूमि पूजन’ के मौके पर पुरे शहर को 400 क्विंटल फूलों से सजाया जायेगा। इस शुभ अवसर के लिए देश के कई शहरों और विदेशों से फूल मगवाये गए हैं। इसके अलावा विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा पवित्र शहर अयोध्या में 50 से अधिक स्थानों पर ‘रंगोली’ बनाने के लिए भी फूलों का उपयोग किया जायेगा।

Ayodhya Ram Mandir Bhoomi Pujan Highlights

5 अगस्त को सुबह 9 बजकर 35 मिनट पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी दिल्ली से लखनऊ की ओर रवाना होंगे। और एक घंटे बाद यानी 10 बजकर 35 मिनट पर वह लखनऊ पहुंचेंगे। इसके बाद वह यहाँ से 10 बजकर 40 मिनट पर अयोध्या के लिए  प्रस्थान करेंगे। जिसके बाद वह साढ़े 11 बजे तक अयोध्या पहुंच जायँगे और साढ़े 12 बजे भूमि पूजन में शामिल होंगे।

पीएम मोदी का कार्यक्रम

  • 9:35 बजे दिल्ली से उड़ेगा विशेष विमान
  • 10:35 बजे लखनऊ एयरपोर्ट पर लैंडिंग
  • 10:40 बजे हेलिकॉप्टर से अयोध्या के लिए प्रस्थान
  • 11:30 बजे अयोध्या साकेत कॉलेज के हेलीपैड पर लैंडिंग
  • 11:40 बजे हनुमान गढ़ी पहुंच कर 10 मिनट दर्शन-पूजन
  • 12 बजे राम जन्मभूमि परिसर पहूंचने का कार्यक्रम
  • 10 मिनट में रामलला विराजमान का दर्शन – पूजन
  • 12:15 बजे रामलला परिसर में पारिजात का पौधारोपण
  • 12:30 बजे भूमिपूजन कार्यक्रम का शुभारंभ
  • 12:40 बजे राम मंदिर की आधारशिला की स्थापना
  • 2:05 बजे साकेत कॉलेज हेलीपैड के लिये प्रस्थान
  • 2:20 बजे लखनऊ के लिए उड़ेगा हेलिकॉप्टर

राम मंदिर ‘भूमि पूजन’ कार्यक्रम में सुरक्षा की पूरी व्यवस्था की गई है। मंदिर स्थल और पूरे अयोध्या में भारी सुरक्षा व्यवस्था है। एनएसजी कमांडो सहित लगभग 4000 सुरक्षाकर्मी मंदिर स्थल के पास तैनात हैं और 75 चेक पोस्ट बनाए गए हैं।

रामार्चा पूजा 4 चारणों में होती है। प्रथम चरण में सभी देवताओं की पूजा की जाती है। इसके बाद दूसरे चरण में अयोध्या के साथ नल, नील, सुग्रीव की पूजा की जाती है। तीसरे चरण में राजा दशरथ और उनकी पत्नियां एवम् भगवान राम के तीनों भाई और उनकी पत्नियों के साथ ही हनुमान जी की भी पूजा की जाती है। चौथे चरण में भगवान श्री राम चंद्र जी की पूजा होती है।

भूमि पूजन से एक दिन पहले मंगलवार सुबह को ‘रामार्चा’ पूजा की गयी। जिसमें राम कथा और राम धुन का पाठ शामिल किया गया। इसकी अगुवाई वाराणसी और अयोध्या के 11 पुजारी कर रहे हैं। राम जन्मभूमि परिसर में 6-7 घंटे पूजा जारी रहेगी। हनुमान गढ़ी मंदिर में भगवान हनुमान जी के ‘पताका’ (ध्वज) की विशेष पूजा की जाती है।

राम मंदिर ‘भूमि पूजन’ के कार्यक्रम के लिए आमंत्रित संत गणों में दशनामी सन्यासी परंपरा, रामानंद वैष्णव परंपरा, रामानुज परंपरा, नाथ परंपरा, निम्बार्क, माधवाचार्य, वल्लभाचार्य, रामसनेही, उदासीन, निर्मले संत, कबीर पंथी, चिन्मय मिशन, रामकृष्ण मिशन, लिंगायत, वाल्मीकि संत, रविदासी संत, आर्य समाज, सिख परंपरा, बौद्घ, जैन, संत कैवल्य ज्ञान, संत पंथ, इस्कान, स्वामी नारायण, वारकरी, एकनाथ, बंजारा संत, वनवासी संत, आदिवासी गौड़, गुरू परंपरा, भारत सेवाश्रम संघ, आचार्य समाज, संत समिति, सिंधी संत, अखाड़ा परिषद के पदाधिकारी समेत नेपाल के विभिन्न इलाकों सहित जनकपुर के भी संत उपस्थित रहेंगे।

भूमि पूजन कार्यक्रम में काशी, अयोध्या, दिल्ली, प्रयाग के विद्वानों को बुलाया जायेगा। इसके साथ ही अलग अलग पूजा के अलग अलग एक्सपर्ट भी शामिल रहेंगे। इसके अलावा 21 ब्राह्मणों की टीम अलग अलग तरीके से पूजा करवाएगी।

RSS प्रमुख मोहन भागवत और बाबा रामदेव भी राम मंदिर ‘भूमि पूजन’ के कार्यक्रम में शामिल रहेंगे। इसके अलावा 25000 लावारिस शवों का अंतिम संस्कार करने वाले मोहम्मद शरीफ को भी राम मंदिर भूमिपूजन में आने का निमंत्रण दिया गया है। सरकार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल व दत्तात्रेय होसबोले, अखिल भारतीय सह व्यवस्था प्रमुख अनिल, पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र के क्षेत्रकार्यवाह रामकुमार भी कार्यक्रम में शामिल होंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अपील पर तीर्थ नगरी मथुरा, काशी, चित्रकूट, प्रयागराज, नैमिषारण्य और गोरखपुर में अखंड कीर्तन और रामायण का पाठ शुरू किया जायेगा।

गुजरात के सात संतों को भूमि पूजन का न्योता दिया गया है। सभी संत करीब सात किलो चांदी ट्रस्ट को भेंट देंगे।  मध्य प्रदेश के पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री व बजरंग दल के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जय भान सिंह पवैया चंबल का जल कलश व दतिया का पीतांबरा सिद्ध पीठ की मिट्टी लेकर अयोध्या आएंगे।

Leave a Comment