Uric Acid Home Remedies In Hindi: यूरिक एसिड को कम करता है गाजर और चुकंदर, बस इस तरीके से करें सेवन!

Uric Acid Home Remedies In Hindi: आजकल अनियमित जीवनशैली और गलत खानपान भी कई बीमारियों का कारण है। उनमें से एक बीमारी हमारे शरीर में यूरिक एसिड का बढ़ जाना भी है। यूरिक एसिड का बढ़ना मानव शरीर के लिए काफी कष्ट दायक साबित होता है। जब हमारे शरीर में मौजूद प्यूरिन नामक तत्व टूटने लगता है तब यूरिक एसिड बनना शुरू हो जाता है। यूरिक एसिड बढ़ने के वजह से शरीर में गठिया, जोड़ों के दर्द, सूजन और गाउट जैसे बीमारियां होना शुरू हो जाती हैं।

जानकारों की मानें तो कई बार गलत खानपान या खराब रहन-सहन के वजह से हमारी किडनी सही से काम नहीं कर पाती है। इस कारण से किडनी हमारे शरीर से अपशिष्ट पदार्थ को यूरिन के माध्यम से बाहर नहीं निकाल पाती है, जिससे हमारे शरीर में कुछ तत्व जमा होने लगते हैं। ये हमारे शरीर के लिए काफी हानिकारक होते हैं, इन अपशिष्ट पदार्थों में से एक तत्व यूरिक एसिड भी है। जिसे एक नेचुरल बेस्ट वेस्ट प्रोडक्ट भी कहा जाता है। जो कि खाने पीने की चीजों में पाया जाता है, इसे फ्यूरिन के नाम से भी जाना जाता है।

अधिक प्यूरीन वाले भोजन को या खाद्य पदार्थों को ग्रहण करने से हमारे शरीर में यूरिक एसिड (Uric Acid Symptoms In Hindi) का स्तर बढ़ जाता है, जो धीरे धीरे हमारे खून में जमा होने लग जाता है। यूरिक एसिड बढ़ने की वजह से हमें कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जिसमें जोड़ों का दर्द एक बड़ी समस्या है।

Uric Acid Symptoms In Hindi: यूरिक एसिड जब हमारे शरीर में बढ़ जाता है तो ये लक्षण दिखाई देते हैं

  • हमारे जोड़ों में दर्द शुरू हो जाता है।
  • शरीर में सूजन आने लगता है।
  • यूरिक एसिड के वजह से जोड़ों की दर्द वाली जगह की आसपास की स्कीन लाल होने लगती है।
  • इस दौरान लोगों को उल्टी भी आती है।
  • हमारे लोअर बैक में दर्द होता है।
  • हमें नोजिया भी होती है।

इस तरह की समस्या अगर आपको दिखे तो आप यूरिन टेस्ट करवा सकते है। शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा को मापने के लिए यूरिक एसिड टेस्ट कराया जाता है। जैसा हमने आपको पहले ही यह बताया कि शरीर में प्यूरिन के टूटने के बाद ही यूरिक एसिड नामक केमिकल का उत्पादन शुरू हो जाता है। प्यूरिन एक प्रकार का योगिक है जो नेचुरल ब्रेकडाउन के वक्त ब्लड स्ट्रीम में प्रवेश कर जाता है।

Uric Acid Home Remedies In Hindi: गाजर और चुकंदर का करें सेवन

जानकारों की मानें तो आप दवाओं के आलावा गाजर और चुकंदर का सेवन कर के भी यूरिक एसिड का इलाज (Uric Acid Remedies In Hindi) कर सकते हैं। आप गाजर और चुकंदर के जूस द्वारा अपने यूरिक एसिड पर कंट्रोल नियंत्रण पा सकते हैं। यूरिक एसिड की मात्रा को आसानी से कम करने में गाजर और चुकंदर का जूस काफी मददगार साबित होता है। इनके जूस के सेवन से शरीर में पीएच लेवल बढ़ता है।

चुकंदर में होते हैं ये चार तत्व

चुकंदर में कार्बोहाइड्रेट, विटामिन और क्लोरीन के साथ मिनरल्स काफी मात्रा में पाया जाता है। जो हमारी किडनी क्षमता को बढ़ा सकता है। चुकंदर के जूस पिने के बाद किडनी हमारे शरीर में मौजूद गंदगी को आसानी से बाहर निकाल देता है।

सूजन कम करता है गाजर

जहां तक गाजर का सवाल है तो और यह विटामिन ए और एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है। यह भी आसानी से को यूरिक एसिड को कंट्रोल कर सकता है। जिन्हें कहीं भी सूजन हो तो वह गाजर का सेवन कर सकते हैं, इससे उन्हें सूजन को कम करने में काफी लाभ मिलेगा।

इन चीजों का न करें सेवन

विशेषज्ञों के अनुसार जिन व्यक्तियों को यूरिक एसिड की परेशानी है उन्हें मांसाहारी भोजन कम करना चाहिए। यूरिक एसिड से पीड़ित व्यक्ति को मछली, झींगा, केकड़ा टूना, ट्राउट आदि नहीं खाना चाहिए। यह सभी यूरिक एसिड को बढ़ाने का काम करते हैं। इसके अलावा अधिक प्रोटीन युक्त भोजन और फ्रुक्टोज वाला खाना भी शरीर में यूरिक एसिड के स्तर को बढ़ाता है। इसलिए इस तरह के भोजन को ग्रहण करने से बचना चाहिए

Leave a Comment