स्कूल चलें हम से लेकर मोबाइल से पढ़ें हम तक! आईआईटी के पूर्व छात्र ने बनाया ‘यू लर्निंग एप’

U-learn Mobile Application: कोरोना की वजह से कई लोगों की जानें गई है, लेकिन इससे देश में एक तरह से शिक्षा के क्षेत्र में डिजिटल क्रांति पैदा हुई है। बड़े-बड़े प्राइवेट शिक्षण संस्थानों से लेकर सरकार के द्वारा संचालित शिक्षण संस्थाओं में भी डिजिटल रूप से शिक्षा को जारी रखा गया। आईआईटी के एक छात्र ने इस डिजिटल शिक्षा के क्षेत्र में आने वाली क्रांति में सराहनीय सहायता की है। जी हाँ, एक पूर्व आईआईटी के छात्र ने एक ‘यू लर्निंग’ नाम का एप तैयार किया जिसमें 12वीं कक्षा तक के छात्रों के लिए सम्पूर्ण कोर्स (पुस्तकें) सहित 650 शिक्षक भाषण अपलोड किये हैं। खैर, अभी यह एप्लिकेशन त्रिपुरा राज्य के स्कूलों के लिए काम कर रहे हैं और जल्द ही इसे उत्तर प्रदेश के लिए भी खोला जाएगा।

एक एप में 20 पुस्तकें सहित 650 लेक्चर

कोरोना ने देश की शिक्षा प्रणाली पर काफी गहरा असर डाला है। डिजिटल शिक्षा प्रणाली लागू हुई है लेकिन आज भी कई लोग इसे दूषित शिक्षा प्रणाली के रूप में देख रहे हैं। ऐसे में काफी सारी कंपनियां और सरकार डिजिटल शिक्षा प्रणाली को बेहतर और अधिक सुरक्षित बनाने की कोशिश में लगी हुई है। इसी उद्देश्य से इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के इंडस्ट्रियल एंड मैनेजमेंट इंजीनियरिंग के पूर्व छात्र ओंकार ने एक ऐसा डिजिटल शिक्षा एप तैयार किया है जिसकी मदद से सरकारी विद्यालयों के छात्र भी शिक्षा ग्रहण कर सकेंगे। यह एप्लीकेशन उन बच्चों के लिए अधिक मददगार साबित होगी, जिनके पास अधिक डिजिटल संसाधन नहीं है या फिर जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है।

इस एप्लीकेशन में शिक्षक पाठ्यक्रम के अनुसार लेक्चर और नोट से अपलोड कर सकते हैं। जो लोग इस एप्लीकेशन को यूट्यूब की तरह समझ रहे हैं, उनकी जानकारी के लिए बता दें कि यह एप्लीकेशन यूट्यूब से काफी अलग होने वाला है। यह एक प्रोफेशनल एप्लीकेशन होगा जिसमें बच्चों को मुफ्त में शिक्षा सामग्री उपलब्ध करवाई जाएगी। यह एप्लीकेशन उन लोगों के लिए भी काफी बेहतर है, जिनके स्कूलों में डिजिटल रूप से पढ़ाई नहीं कराई जा रही।

उत्तर प्रदेश में भी जल्द आएगा ‘यू लर्निंग एप्प’

आईआईटी के पूर्व छात्र और ‘यू लर्निंग एप्प’ के निर्माता ओंकार का कहना है कि यह एप त्रिपुरा के सरकारी स्कूलों के लिए काफी बेहतरीन तरीके से काम कर रहा है। यू लर्निंग एप पर पूरे देश के छात्रों की नज़र है। यू लर्निंग एप पर बंगाली भाषा में भी पुस्तकें  और लेक्चर भी उपलब्ध हैं। ओंकार ने बताया की जल्द ही यह एप्लीकेशन हिंदी भाषा में उपलब्ध करवाया जाएगा जिससे कि  उत्तर प्रदेश के छात्र भी यू लर्निंग एप पर शिक्षा ग्रहण कर सकेंगे।

इस एप्प पर गणित, विज्ञान और अंग्रेजी विषय के शिक्षक भी लेक्चर और कोर्स अपलोड करेंगे, जिससे कि उत्तर प्रदेश और विभिन्न हिंदी भाषी राज्य यू लर्निंग एप की मदद से शिक्षा ग्रहण कर सकेंगे। जल्द ही उत्तर प्रदेश के शिक्षकों के लिए यह एप्लीकेशन शिक्षण सामग्री अपलोड करने के लिए खोला जाएगा।

त्रिपुरा में डिजिटल शिक्षा का पहल

त्रिपुरा के सरकारी स्कूलों में डिजिटल शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए ‘यू लर्निंग एप्प’ काफी योगदान निभा रहा है। सरकारी स्कूलों के छात्र को इस एप्लीकेशन से सबसे अधिक फायदा हो रहा है। इससे छात्र बिना किसी खास खर्चे के अपनी स्कूली पढ़ाई को जारी रखे हुए हैं।

Leave a Comment