India vs Aus T-20: टीम में न होकर भी युजवेंद्र चहल ने भारत को पहला टी-20 मैच जिताया, जानिए क्या है यह ‘कनकशन सब्स्टीट्यूट’

India vs Aus T-20 Know What Is Concussion Substitute: भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए पहले टी 20 मैच में भारत ने 11 रन से जीत दर्ज कर ली। परन्तु जीत के बावजूत भी यह मैच विवादों से भरा रहा। कैनबरा में खेले गए इस मुकाबले में रविंद्र जडेजा की जगह युजवेंद्र चहल ‘कनकशन सब्स्टीट्यूट’ खिलाडी के तौर पर मैदान पर उतरे। रविंद्र जडेजा को हेलमेट में मिशेल स्टार्क की तेज गेंद लगने के बाद युजवेंद्र चहल ‘कनकशन सब्स्टीट्यूट’ खिलाडी के विकल्प के तौर पर खेलने आये। जडेजा को भारतीय पारी के आखिरी ओवर में मिशेल स्टार्क की बाउंसर से चोट लग गई जिस वजह से वह विकेट के बीच दौड़ते हुए दर्द से कराहते हुए नजर आये। इसके बाद बल्लेबाजी पूरी होने के बाद उन्हें बीसीसीआई की मेडिकल टीम ने असेस्टमेंट कराने के लिए ड्रेसिंग रूम में ही रोक लिया। इसके बाद उनकी जगह सब्सटीट्यूट के तौर पर युजवेंद्र चहल को मैदान पर फील्डिंग के लिए उतारा गया।

India vs Aus T20 yuzvendra chahal concussion substitute ravindra jadeja Know what it is

कनकशन सब्स्टीट्यूट के बदौलत भारत ने पहला टी 20 मैच जीता 

रविंद्र जडेजा ने महज 23 गेंदों पर नाबाद 44 रन की पारी खेली। उन्होंने 5 चौके और एक छक्का भी लगाया। उनकी इस अहम पारी के बदौलत भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 163 रनों का लक्ष्य दिया। ‘कनकशन सब्स्टीट्यूट’ के तौर पर उतरे युजवेंद्र चहल ने गेंदबाजी करते हुए 4 ओवर में 25 रन देकर 3 विकेट चटकाए। दूसरी तरफ लक्ष्य का पीछा करने उत्तरी ऑस्ट्रेलिया की टीम 20 ओवर में 7 विकेट खोकर मात्र 150 रन ही बना सकी। इसी के साथ भारत ने यह मैच 11 रन से जीत कर टी-20 सीरीज में 1-0 की बढ़त भी बना ली। वहीँ दूसरी तरफ ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कोच जस्टिन लैंगर मैच रेफरी डेविड बून से इशारों में बात करते हुए नजर आये, जिससे लग रहा था कि वह चहल को ‘कनकशन सब्स्टीट्यूट’ खिलाडी के तौर के उतारे जाने पर नाखुश हैं।

तो आइये जानते हैं क्या है यह ‘कनकशन सब्स्टीट्यूट’ और क्या हैं इसके नियम 

कनकशन सब्स्टीट्यूट के नियम के अनुसार यदि खेलते समय कोई खिलाडी चोटिल हो जाता है तो उसकी जगह दूसरा खिलाडी ले सकता है। कनकशन सब्स्टीट्यूट को मैदान पर उतारने के पीछे मैच रेफरी का फैसला होता है। यदि बल्लेबाज चोटिल है तो नियम के अनुसार बल्लेबाज और यदि तेज़ गेंदबाज चोटिल होता है तो उसकी जगह तेज़ गेंदबाज ले सकता है। दोनों ही टीमों के पास एक-एक कनकशन सब्स्टीट्यूट का विकल्प होता है। अगर डॉक्टर या मेडिकल स्टॉफ को लगता है कि प्लेयर के सिर में गंभीर चोट है तो उन्हें या मैच रेफरी को इस बारे में जानकारी देनी होगी। इसके बाद ही चोटिल बल्लेबाज के सब्स्टीट्यूट को मैदान पर उतरने की अनुमति मिल सकती है। नियम के अनुसार जिस चोटिल खिलाडी के बदले सब्स्टीट्यूट को उतारा गया है, उसे तब तक नहीं उतार सकते हैं जब तक डॉक्टर हरी झंडी न दे। इसके अलावा अगर किसी खिलाड़ी के सिर में चोट लगी है और वह प्लेयर मैदान से बाहर है तो फिर उस दिन वह मैदान पर नहीं उतर सकता है।

India vs Aus T20 yuzvendra chahal concussion substitute ravindra jadeja Know what it is

जानिए कनकशन सब्स्टीट्यूट पर दिग्गत खिलाडियों ने क्या राय दी

कनकशन सब्स्टीट्यूट पर पूर्व इंग्लिश कप्तान माइकल वॉन ने अपनी राय देते हुए कहा “कोई डॉक्टर या फीजियो जडेजा के कन्कशन के लिए मैदान पर नहीं आया। और इसके बाद ऐसा लगा जैसे उनके पैर में कुछ हुआ है फिर वह मैदान से बाहर हो गए और उनकी जगह दूसरे खिलाडी को लाया गया।”

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर टॉम मूडी ने इस पर अपनी राय देते हुए लिखा “मुझे जडेजा की जगह चहल को मैदान पर उतरने पर कोई परेशानी नहीं है। परन्तु मुझे परेशानी इस बात पर है कि जडेजा के हेलमेट पर चोट लगी तो कोई डॉक्टर या फिजियो नहीं आया जो आजकल प्रोटोकॉल के तहत आता है।”

Leave a Comment