पीएम मोदी ने किया नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन का एलान, जानें क्या है यह योजना?

National Digital Health Mission Announced: 15 अगस्त के दिन हर साल देश के प्रधानमंत्री जनता को सम्बोधन देते हैं। इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण के दौरान ‘नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन’ की घोषणा की। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया कि राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य अभियान के माध्यम से देश में एक नई स्वास्थ्य क्रांति आएगी और तकनीक के माध्यम से लोगों को स्वास्थ सम्बन्धी समस्याओं से लड़ने में मदद मिलेगी।

आखिर क्या है राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य अभियान

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य अभियान सरकार द्वारा चलायी जा रही स्वास्थ्य के क्षेत्र में एक नई योजना है जिसके तहत मरीजों की स्वस्थ्य सम्बन्धी सभी जानकारियों की रिपोर्ट तैयार की जा रही है। इससे नागरिकों को कई तरह की मदद मिलेगी। इस रिपोर्ट के माध्यम से चिकित्सा जांच, हर बीमारी, आपको किस डॉक्टर ने कौन सी दवा दी, कब दी, रिपोर्ट्स क्या थीं जैसी जानकारियाँ  एक ही स्वास्थ्य पहचान पत्र में समाहित हो जाएगी। इस नई योजना से लोगों की कई स्वास्थ्य सम्बन्धी योजनाएँ खत्म हो जाएगी।

कैसे काम करेगा नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन?

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन के तहत मरीजों का एक स्वास्थ्य पहचान पत्र बनाया जाएगा। इस पहचान पत्र के जरिए मरीज की मेडिकल हिस्ट्री मालूम होगी। इससे आप जब भी देश के किसी भी कोने में किसी स्वास्थ्य संबंधी समस्या का इलाज कराने के लिए जाओगे तो आपको किसी प्रकार के पर्ची नहीं लेनी होगी। जब आपकी सारी जानकारी पहले से ही आपके स्वास्थ्य पहचान पत्र (हेल्थ कार्ड) में मौजूद होगी तो पर्ची कटाने की आवश्यकता नहीं होगी।

इस हेल्थ कार्ड के जरिये डॉक्टर और हॉस्पिटल का स्टाफ यह जान लेगा कि आपको कौनसी बीमारी है और पहले आपका कहाँ  कहाँ से इलाज हुआ है और आपने कौनसी दवाइयाँ ली हैं। इससे स्वास्थ्य क्षेत्र में होने वाले भ्रष्टाचार में भी कमी आएगी। यह आकड़े आयुष्मान भारत योजना में भी मदद करेंगे।

जल्द ही एक सर्वर पर होंगे सब

नागरिकों का पूरा मेडिकल डेटा रखने के लिए अस्पताल, क्लीनिक और डॉक्टर्स को एक मुख्य केंद्रीय सर्वर पर जोड़ा जाएगा। इस सर्वर पर सरकारी अस्पतालों के साथ प्राइवेट अस्पताल, क्लिनिक और यहाँ तक की डॉक्टर भी रजिस्टर होंगे। शुरुआत में तो इस योजना के तहत कुछ खास लोगों को ही जोड़ा जाएगा लेकिन धीरे धीरे इस योजना को आगे बढ़ाते हुए सभी नागरिकोन को इस योजना में जोड़ने की सम्भावनायें है।

कोरोना वायरस की 3 वैक्सीन परिक्षण के चरण में

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन के बारे में बात करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोनावायरस का भी जिक्र किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को सांत्वना देते हुए कहा कि इस समय देश में कोरोनावायरस की एक नहीं बल्कि 3 वैक्सीन परीक्षण के चरण में है। जैसे ही इन परीक्षणों को हरी झंडी मिल जाएगी वैसे ही वैक्सीन का बड़े पैमाने पर उत्पादन शुरू कर दिया जाएगा। पहले देश में कोरोना का केवल एक जांच सेंटर था लेकिन अब 1400 जांच सेंटर हैं।

Leave a Comment