Monday, April 12, 2021
Home लाइफस्टाइल धर्म और आस्था Sakat Chauth 2021 : क्यों मनाया जाता हैं सकट चौथ का वृत,...

Sakat Chauth 2021 : क्यों मनाया जाता हैं सकट चौथ का वृत, जाने सकट चौथ कर महत्व के बारे में





हमारे देश मे विभिन्न धर्मों के विभिन्न सभ्यताओं को मानने वाले लोग निवास करते हैं। इस वजह से ही हमारे देश को अन्य देशों में एक धार्मिक देश के रूप में स्वीकारा जाता हैं। भारत मे सनातन धर्म के हर साल सेकड़ो त्यौहार मनाए जाते है और उन्ही में से एक त्यौहार ‘सकट चौथ’ का त्यौहार भी हैं। सकट चौथ के त्यौहार के दिन संकट हरण श्री गणेश को पूजा जाता हैं। मान्यता हैं कि सकट चौथ का वृत करने से संकट और दुःख दूर होते हैं। इस वृत को कई अन्य नामो जैसे कि वक्रतुण्डी चतुर्थी, माही चौथ अथवा तिलकुटा चौथ आदि के नाम से भी जाना जाता हैं। इस वृत के दिन संकट गणेशजी और चंद्रमा की पूजा की जाती हैं। इस बार 31 जनवरी के दिन सकट चौथ (Sakat Chauth 2021) का वृत मनाया जाएगा।

क्यों मनाया जाता हैं सकट चौथ का त्यौहार?

सनातन धर्म से जुड़े हर त्यौहार की तरह ही सकट चौथ को मनाने का भी एक विशेष कारण है और इसको लेकर कुछ लोककथाएं भी मौजूद हैं। मान्यताओं के अनुसार सकट चौथे के बारे में भगवान गणेश ने खुद मा पार्वती को बताया था। इस वृत को घर का कोई भी सदस्य कर सकता हैं। कहा जाता हैं कि संतान की खुशहाली और समृद्धि के लिए यह वृत किया जाता हैं। अधिकतर यह वृत मा के द्वारा किया जाता हैं। सकट चौथ से जुड़ी एक लोकोरिय लोककथा के अनुसार किसी नगर में एक कुमार निवास करता था। एक बार जब उसने बर्तन बनाकर आवा लगाना चाहा तो आवा नही लगा।

इस समस्या को लेकर कुमार राजा के पास गया। राजा ने राजपंडित को बुलाया और राजपंडित ने कहा कि ‘हर बार आंवां लगाते समय एक बच्चे की बलि देने से आंवां पक जाएगा’। राजा ने इसके लिए आदेश जारी कर दिया। अब राजा के आदेशानुसार जिस परिवार की बारी होती, वह अपने बच्चों में से एक बच्चा बलि के लिए भेज देता। कुछ दिनों में एक बुढ़िया के लड़के की भी बारी आ गयी। बुढ़िया के एक ही बच्चा था। उसने अपने बच्चे को डूब का बीड़ा और सकट की सुपारी देकर कहा कि भगवान में श्रद्धा रखकर आवा में बैठना, सकट माता तेरी रक्षा जरूर करेगी’। आवा एक ही रात में पकं गया और बुढ़िया का बेटा जीवित वापस लौटकर आया। तब से नगरवासियों की सकट माता में श्रद्धा पैदा ही गयी। सकट माता की कृपा ने अन्य बालक भी जीवित जो गए। तब से सकट माता का वृत किया जाता हैं।


Akshat Jain
Akshat Jainhttps://newsraja.news/
A Great Contributor and Author, Akshat always passionate about his work and always try to give the best. he is keen to learn new things and implement them honestly. He has good experience in Content writing and can write in each and every topic in detail.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

IPL Schedule 2021: यहाँ देखें आईपीएल-2021 का फुल शेड्यूल, टीमें, टाइम टेबल और वेन्यू

IPL Schedule 2021: दुनिया की सबसे बड़ी लीग यानि आईपीएल के 14वें संस्करण का आयोजन होने जा रहा है। आईपीएल-2021 का पहला मैच 9...

GodZilla vs Kong in Hindi : यह हैं गॉडजिला वर्सेज कॉन्ग देखने के 3 खास कारण

इसमें कोई दो राय नहीं कि भारत में हॉलीवुड फिल्मो का क्रेज लगातार बढ़ता जा रहा है जिसका मुख्य कारण यह है कि भारत...

PM Kisan Samman Nidhi : शुरू हुई प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की 8वी किश्त, 11.66 करोड़ किसानों को मिलेगा लाभ

इस बात में कोई दो राय नहीं है कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना वर्तमान केंद्र सरकार के द्वारा किसानों के लिए शुरू की...

दुनिया की सबसे तेज थ्री-व्हीलर इलेक्ट्रिक कार लॉन्च करने जा रही हैं यह कैनेडियन कम्पनी, जाने फीचर्स के बारे में

थ्रीव्हीलर गाड़िया वह गाड़िया हैं जिनहीँ कभी कार जितना जम्मान नही मिला, भारत मे मुख्य रूप से इन गाड़ियों को प्रोडक्टिव कामो जैसे कि...

Recent Comments