अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव: जानिए कौन है कमला देवी और इन्हें उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार क्यों बनाया गया?

US Election 2020: अमेरिका में इस साल नवंबर के महीने में राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के चुनाव होने हैं। राष्ट्रपति पद को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और जो बिडेन में प्रतिस्पर्द्धा चल रही है। तो वहीं उपराष्ट्रपति पद के लिए भारतीय मूल की सीनेटर कमला हैरिस उम्मीदवार के तौर पर खड़ी हैं। कमला हैरिस पहली भारतीय मूल की उम्मीदवार है जो जो डेमोक्रेटिक पार्टी के टिकट पर उप-राष्‍ट्रपति पद के लिए रेस में होंगी।

कमला हैरिस भारतीय मूल की हैं तो इसका मतलब यह नहीं है कि वह हमेशा भारतियों के हित की बात करती हैं। इससे पहले भी वह दिखा चुकीं हैं कि जब मुद्दों की बात होती है तो वह अपनी पार्टी की नीतियों से एक इंच भी टस से मस नहीं होती। एक बार वह भारतीय विदेश नीति नियामकों पर भी फटकार लगा चुकी हैं। पिछले साल जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने पर भी उन्होंने इस पर विरोध जताया था।

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव 2020 (US Election 2020)

दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका पर राज करने वाला भी सबसे ताकतवर माना जाता है। ऐसे में अमेरिका का राष्ट्रपति कौन बनता है दुनिया इस पर कड़ी निगाह रखती है। अमेरिका में अभी राष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया शुरू होने वाली है और 3 नवंबर को अमेरिका की जनता अपने नए नेता के लिए मतदान डालेगी। अमेरिकी संविधान के आर्टिकल 2 के सेक्शन 1 में वहां के राष्ट्रपति चुनाव की जानकारी विस्तृत रूप जानकारी दी गयी है। इसमें तीन मुख्य बातों का ध्यान दिया गया है जिसके तहत अमेरिकी चुनाव की नींव पड़ती है अगर कोई व्यक्ति अमेरिका का राष्ट्रपति बनना चाहता है तो तीन शर्तों को पूरा करना जरूरी है। पहली शर्त चुनाव लड़ने वाला व्यक्ति पैदाइशी अमेरिकी होना चाहिए। दूसरी उसकी उम्र कम से कम 35 वर्ष होनी चाहिए। और तीसरी चुनाव लड़ने वाले व्यक्ति कम से कम 14 बरस तक अमेरिका में रहा होना चाहिए।

कौन है कमला हैरिस और क्या हैं उनके भारत के साथ संबंद?

US Election 2020

कमला हैरिस 55 वर्ष की हैं, उनकी माँ श्यामा गोपालन हैरिस चेन्नई से हैं और उनके पिता डोनाल्ड हैरिस जमैका के रहने वाले हैं। कमला हैरिस और नकी छोटी बहन माया हैरिस जब बहुत छोटे थे तब तब उनके माता-पिता अलग हो गए थे। कमला हैरिस दो बार कैलिफोर्निया की अटॉर्नी जनरल भी रह चुकी हैं। वह साउथ इंडियन खाना बहुत पसंद करती हैं। उन्हें एक भारतीय मां की बेटी पर काफी गर्व है, इस वजह से अपने राजनीतिक कैरियर के हर भाषण अपनी मां का जिक्र करना नहीं भूलती हैं। वह अपनी नाना-नानी के भी बहुत करीब रहीं हैं। प्रतिवर्ष छुटियों में कमला व उनकी छोटी बहन माया हैरिस तमिलनाडु अपने ननिहाल आया करती थी। यहाँ आकर वह हिन्दू मंदिरों में भी दर्शन के लिए जाती थी।

kamala harris

कमला हैरिस ऑकलैंड में पली-बढ़ी हैं। उन्होंने हावर्ड यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। इसके बाद उन्होंने कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से कानून की पढ़ाई की है। कमला हैरिस सैन फ्रांसिस्को में जिला अटॉर्नी के रूप में भी काम कर चुकी हैं। इसके बाद 2003 में सैन फ्रांसिस्को की जिला वकील बानी थी। वह 2017 में कैलिफोर्निया से संयुक्त राज्य सीनेटर के रूप में शपथ ले चुकी है।

कैसे बनी उपराष्ट्रपति पद की पहली एशियाई अमेरिकी महिला उम्मीदवार?

kamala harris

उपराष्ट्रपति पद का टिकट पाने वाली कमला पहली एशियाई-अमेरिकी कैंडिडेट है। पिछले वर्ष की शुरुआत तक वह राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी में लगी रही थी। इससे पहले चुनाव में भारतीय मूल के मतदादाताओं ने आम तौर पर रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप का समर्थन किया था। ऐसा पहली बार हो रहा है जब कोई अश्वेत महिला अमेरिका में अमेरिका में किसी बड़ी पार्टी की ओर से उम्मीदवार के तौर पर हो। यदि वह उपराष्ट्रपति बन जाती है तो वह इस पद पर रहने वाली अमेरिका की पहली महिला होंगी और देश की पहली भारतीय-अमेरिकी और अफ्रीकी उपराष्ट्रपति होंगी।

Leave a Comment