अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव 2020: जानें अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी पूरी जानकारी

US Presidential Election 2020: अमेरिका का राष्ट्रपति विश्व के सबसे ताकतवर व्यक्ति में से एक होता है, और वह विश्व के सबसे ताकतवर लीडर्स की लिस्ट में भी शामिल होता है। अमेरिका में जल्द ही अगले राष्ट्रपति के लिए चुनाव शुरू होने वाले हैं। अमेरिका अपने अगले राष्ट्रपति के लिए 3 नवंबर को वोट करने वाला है। हर किसी की नजर इस समय अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव पर है। पिछले कुछ समय में अमेरिका में ऐसी घटनाए घटित हुई है, जिससे कुछ लोग डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ प्रोटेस्ट कर रहे हैं तो वहीं कुछ लोग डोनाल्ड ट्रंप को एक बेहतरीन लीडर मान रहे हैं। ऐसे में यह देखना रोचक होगा कि अमेरिका डोनाल्ड ट्रंप को एक बार फिर राष्ट्रपति बनने देता है या फिर इस बार बिडेन को यह सौभाग्य प्राप्त होता है।

चुनाव प्रचार के लिए तकनीकी का इस्तेमाल

कोरोना वायरस महामारी के चलते जो भी काम डिजिटल तरीके से हो सके तो उसे डिजिटल तरीके से किया जा रहा है, चाहे वह छात्रों को शिक्षा देना हो, या चुनावों का प्रचार करना। अमेरिका में भी पूरी दुनिया की तरह चुनाव प्रचारों में बड़ी बड़ी रैलियों की जगह तकनीकी के इस्तेमाल से चुनावों का प्रचार किया जा रहा है। बता दें कि अमेरिका में पहली बार डाक से मिलने वाले वोटों  की संख्या सबसे ज्यादा दिखने वाली है।

बता दें कि इस समय अमेरिका के मौजूदा राष्ट्रपति ने टीवी प्रचार के लिए 145 मिलियन डॉलर्स का बजट रखा है, तो बिडेन ने 220 मिलियन डॉलर्स का बजट रखा है। बिडेन ने डिजिटल प्लेटफॉर्म्स के माध्यम से प्रचार करने के लिए भी 60 मिलियन डॉलर्स का बजट रखा है, जबकि डिजिटल प्रचार के लिए डोनाल्ड ट्रम्प की तरफ से सेट किये गए बजट के आंकड़े सामने नहीं आये है। इस समय चुनावों के प्रचार में टीवी और डिजिटल प्लेटफॉर्म्स पर प्रचारों की जंग जारी है।

US Presidential Election 2020

ब्लैक लाइव्स मैटर का चुनावों पर गहरा असर

अमेरिका के वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ पिछले कुछ समय में कई घटनाओं को लेकर प्रोडक्ट किए गए हैं। इनमें सबसे बड़ा प्रोटेस्ट ब्लैक मैटर का था, जिसमें राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सवाल उठाए कि उनके कार्यकाल में अमेरिका के ब्लैक लोगों पर अत्याचार किया गया। अश्वेतों के साथ होने वाले अत्याचारों के कारण लोगों में डोनाल्ड ट्रम्प को लेकर आक्रोश बढ़ गया। ब्लैक लाइव्स मैटर अमेरिका के इतिहास में होने वाले सबसे बड़े प्रोटेस्ट में से एक माना जा सकता है, जो 26 मई को जॉर्ज फ्लॉयड नाम के शख्स पर पुलिस के अत्याचार की वजह से शुरू हुआ था। सोशल मीडिया पर हर जगह इस बात की चर्चा भी थी।

कोरोना वायरस का प्रभाव

इस समय विश्व की सबसे बड़ी समस्या चीन के द्वारा पैदा किया गया वायरस माना जा रहा है। इस वायरस ने विश्व की सबसे बड़ी महाशक्ति के हालात भी बिगाड़ के रख दिए हैं, अमेरिका में कोरोना मरीजों की संख्या और मौत की संख्या काफी ज्यादा है। अमेरिका में कोरोनावायरस के कारण हुई मौतों के आंकड़े देखकर हर कोई हैरान है। इस समय दुनिया में सबसे अधिक कोरोना केस अमेरिका में ही है। इस वायरस के कारण अमेरिका में 1.57 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। कई लोग इस तबाही का कारण डोनाल्ड ट्रम्प को मान रहे हैं।

वायरस के कारण देश की अर्थव्यवस्था पर भी भारी असर पड़ा है। पहली तिमाही के आकड़ों की मानें तो अमेरिका की जीडीपी में 5 फीसदी तक गिरावट आयी है। यह 2008 के बाद पहली बार सबसे बड़ी गिरावट है, जिसका मुख्य कारण कोरोना वायरस है। लोग इस वजह से भी वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को ट्रोल कर रहे हैं।

US Presidential Election 2020

558 सदस्य मिलकर करते हैं राष्ट्रपति का चुनाव

अमेरिका में लोग राष्ट्रपति के चुनाव के लिए सीधे वोट नहीं देते। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनने का काम 558 सदस्य करते हैं। इन 558 सदस्यों की इलेक्टोरल बॉडी के वोट्स के आधार पर ही राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति का चुनाव होता है। बता दें कि अमेरिका में हर 4 साल में नवम्बर माह में राष्ट्रपति के लिए चुनाव होते हैं। इस बार अमेरिका अपने अगले राष्ट्रपति के लिए 3 नवम्बर को वोट देगा। अमेरिका में होने वाले इन चुनावों के जरिये 435 हाउस सीट के साथ सीनेट की 100 में से 35 सीटों के लिए भी योग्य सदस्यों को चुना जाता है। जानकारी के लिए बता दें कि अमेरिका में रिपब्लिकन को 53 सीटों के साथ बहुमत प्राप्त है, जबकि डेमोक्रेट्स के 45 सदस्य हैं।

Leave a Comment