Eid 2020: जानिए इस वर्ष कब मनाई जाएगी ईद-उल-फितर, क्यों की जाती है इस दिन नमाज अदा?

When is eid ul fitr 2020: दुनिया भर के मुसलमानों के लिए रमज़ान का पवित्र महीना ख़त्म होने वाला है। आमतौर पर यह फेस्टीवल दोस्तों और परिवार के साथ, मस्जिद और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर जाकर मनाया जाता है। परन्तु दुनिया भर में कोरोनोवायरस महामारी का खौफ फैला हुआ है, और लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया जा रहा है। जिस वजह से इस साल ईद का उत्सव सामान्य से थोड़ा कम हो सकता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम उत्सव का आनंद नहीं ले पायेंगे।

क्यों मनाया जाता है ईद-उल-फितर? 

ईद-उल-फ़ितर या ईद-अल-फ़ितर 30 दिन के उपवास या रोज़ा की समाप्ति का प्रतीक है। ईद-उल-फितर शव्वाल के महीने में पहला और एकमात्र दिन है, जिसके दौरान मुसलमानों को उपवास करने की अनुमति नहीं है। ईद का दिन और तारीख अलग-अलग समय क्षेत्रों और चंद्रमा की लोकेशन के आधार पर भिन्न-भिन्न हो सकती है।

ईद उल-फितर की पूर्व संध्या को ‘चांद रात’ के रूप में भी जाना जाता है। यह वह रात है जब 30 रोज़ा या रमज़ान के महीने भर का समापन होता है। ‘चंद रात’ वह समय है जब परिवार के सदस्य मिठाई खरीदने और ईद की खरीदारी के लिए बाजारों में जाते हैं। कई स्थानों पर, दुकानदारों के लिए रात भर बाजार खुले रहते हैं लेकिन इस वर्ष कोरोनोवायरस के प्रकोप के कारण बाहरी गतिविधियाँ प्रतिबंधित है।

रमज़ान का महीना इस्लामी कैलेंडर के नौवें महीने में आता है, और मुस्लिम समुदाय के लिए बहुत महत्व रखता है। रमजान के पवित्र महीने के दौरान, मुस्लिम 30 दिनों के उपवास का पालन करते हैं। कई मान्यताओं के अनुसार, इस पवित्र महीने को इस्लाम के पांच स्तंभों में से एक माना जाता है। हदीसों में संकलित लेखों के अनुसार, रमज़ान का महीना लगभग 29-30 दिनों तक (आमतौर पर एक महीना) अर्धचंद्राकार चंद्रमा के दृश्य पर आधारित रहता है।

Eid 2020

ईद-उल-फितर 2020 भारत में कब मनाया जायेगा? 

संभावना है कि ईद की तारीख 23 मई, शनिवार को चंद्रमा की लोकेशन के बाद तय की जाएगी। यदि उस दिन चंद्रमा को देखा जाता है, तो 24 मई, रविवार को ईद मनाई जाएगी। अन्यथा, ईद 25 मई, 2020 सोमवार को मनाई जाएगी ।

जानिए क्या है ईद का महत्त्व?

ईद अल्लाह को सम्मान देने और महीने भर के उपवास के लिए ताकत, धीरज देने के लिए शुक्रिया अदा करने का एक तरीका है। ईद उल-फ़ितर शव्वाल के महीने के पहले दिन पड़ता है। ईद के त्योहार का दिन मस्जिद में ईद की नमाज अदा करने से शुरू होता है। इस्लामिक प्रार्थना, (जिसे सलात के रूप में जाना जाता है), में प्रार्थना की दो इकाइयाँ शामिल हैं जिन्हें छः अवतारों के साथ-साथ रकात भी कहा जाता है।

ईद की नमाज के बाद उपदेश दिया जाता है जिसके बाद मुसलमान अल्लाह से दुनिया भर में सभी जीवित प्राणियों के लिए क्षमा, दया, शांति और आशीर्वाद मांगते हैं। आमतौर पर, प्रार्थना एक सभा में की जाती है, लेकिन इस बार, परिवार के सदस्य इसे एकजुट या व्यक्तिगत रूप से पेश कर सकते हैं। यह ईद की नमाज ‘अल्लाहु अकबर’ कहते हुए हाथों को कानों के ऊपर उठाकर किया जाता है जिसका अर्थ है कि ईश्वर सबसे महान है।

Leave a Comment